सर्दियों में रोज़ नहाना इस तरह से पहुँचा सकता हैं आपको नुक्सान

1162
Loading...

सर्दियों के आते ही नहाना एक बड़ा काम लगने लगता हैं जिसके कारण कई लोग बेमन से नहाते हैं, लेकिन इसके बावजूद कुछ लोगो को सफाई का इतना शौक होता हैं की वो सर्दियों में भी रोज़ाना नहाना प्रेफर करते हैं वो सर्दियों में भी गर्मियो की तरह ही नहाते हैं.

दुनियाभर के एक्‍सपर्ट कहते हैं कि रोजाना नहाने से हमारी त्‍वचा पर काफी गंभीर प्रभाव पड़ता है क्‍योंकि हम जरुरत से ज्‍यादा ही नहा लेते हैं. जिस कारण लोगो को त्वचा संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं. आज हम यहाँ आपको बातएंगे की किस प्रकार सर्दियों में रोज़ नहाना आपको कर सकता हैं नुक्सान.

यह खबर उन लोगों को बहुत पसंद आयगी जो सर्दियों में नहाने से कतराते हैं या सर्दियों में रोज़ाना नहीं नहाते हैं, अगर आप भी उनमे से एक हैं तो आप इन समस्याओं से दूर रहने में सफल रहेंगे, एक न्यूज़ के अनुसार आपका रोज़ नहाना आपकी त्वचा के लिए खतरनाक हो सकता हैं, क्योंकि यह त्वचा से प्राकृतिक तेल निकाल देता हैं, जिससे कई नुक्सान होते हैं.

सर्दियों में रोज़ नहाने के यह होते हैं नुक्सान:

बोस्टन के त्वचा विशेषज्ञ डॉ रानेला हिर्श ने कहा है कि लोग रोजाना, गंदे होने की वजह से नहीं बल्‍कि सामाजिक मानदंडों की वजह से नहाते हैं, ताकि उन्हें लोगो के सामने शर्मिंदगी ना उठानी पड़े, लेकिन आपको इस तरह नहाने के यह हो सकते हैं नुक्सान.

bathtub

त्वचा हो जाती हैं रूखी:

सर्दियों इ सबसे ज़्यादा असर वैसे भी हमारी त्वचा को पड़ता हैं, इस तरह अगर आप सर्दियों में रोज़ नहाएंगे तो आपकी त्वचा रूखी होती जायेगी, सर्दियों में गरम शावर के नीचे खड़े होने से बदले ही आपको आराम तो मिलता होगा लेकिन गरम पानी से आपकी त्‍वचा रूखी हो सकती है उसका प्राकृतिक तेल छिन सकता है, ऐसे में आपकी त्‍वचा से नमी चली जाएगी और त्‍वचा हर वक्‍त रूखी बनी रहेगी.

Advertisement
Loading...

फिर भी अगर आप सर्दियों में रोज़ नहाना पसंद करते हैं तो आपको चाहिए की आप ड्राई शैम्पू वा साबुन का इस्तेमाल कतई ना करे, और शावर के नीचे खड़े होने का समय सिर्फ 10 मिनट तक ही निश्चित करे.

सर्दियों में हफ्ते में दो या तीन बार ही नहाये:

विशेषज्ञओ की माने तो सर्दियों में अफ्ते में दो या तीन दिन नहाना ही काफी होता हैं, हमारी त्‍वचा एक अच्‍छा बैक्‍टीरिया पैदा करती है जो कि हमे कैमिकल प्रॉडक्‍ट से निकलने वाले टॉक्‍सिन से बचाती है। लेकिन आप रोज नहा कर इस बैक्‍टीरिया को शरीर से साफ कर देते हैं. जिससे थोड़े बहुत नुक्सान हमारी त्वचा को पहुँचता हैं.

नाखूनों को पहुँचता हैं नुक्सान:

सर्दियों में क्योंकि हम गरम पानी से ही नहाते हैं, जिससे हमारे नाखून खराब हो जाते हैं, क्योंकि गरम पानी हमारे नाखूनों को नुक्सान पहुँचाते हैं, गरम पान से नहाने के कारण हमारे नाखून फैलने, छिलने और टूटना शुरु हो जाएंगे, हमारे नाखून पानी सोखते हैं , जिससे वह अपनी प्राकृतिक नमी और तेल को खो बैठते हैं और रूखे-सूखे बन जाते हैं. और इनकी सुंदरता खो जाती हैं.

सर्दियों में रोज़ नहाने की ज़रूरत नहीं:

विशेषज्ञओ के माने तो सर्दियों एमए रोज़ नहाना ज़रूरी नहीं होता हैं, अध्ययनों से पता चला है कि हमारी त्वचा को साफ करने के लिये शरीर में ऐसे प्रभावी तंत्र हैं जो उसे खुद ही साफ कर सकते हैं, यदि आप जिम जाते हैं या दिनभर ढेर सारा पसीना बहाते हैं, तो आपको नहा कर खुद को साफ जरुर करना चाहिये.

पानी बहुत होता हैं वेस्ट:

यह तो आप भी जानते हैं की हमारा देश पाम्न की समस्या से जूझ रहा हैं, अध्धयन की माने तो एक औसत व्यक्ति पानी के 55 लीटर केवल स्नान के लिए हर दिन खर्च कर देता है, जो की बहुत ज़्यादा हैं यही से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं की किस प्रकार पानी खर्च होता.

जो लोग नहाने के लिए शावर का इस्तेमाल करते हैं. वो पानी की बहुत ज़ायद बर्बादी करते हैं, इसीलिए आपको चाहिए की आप शावर से ना नहा कर बाल्टी से ही नहाए

माहिलाओ का नाहने का आंकड़ा हैं इस प्रकार:

एक सर्वे के अनुसार, 5 महिलाओं में 4 महिलाएं हर रोज नहाने से परहेज करती है, जबकि एक तिहाई औरतों का मानना है कि वे 3 दिनों का गैप डालकर नहाती है, इन दिनों वह परफ्यूम, क्रीम, बॉडी ऑयल और डियो आदि से खुद को ताजा रखती हैं.

bathing daily in winters is not good for your skin and for your health are you shocked do not be read this article and know the facts about it.

web-title: bathing tips for winter season

keywords: bathing, daily, winters, disadvantages, bathing tips

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here