जाने कैसे हुक्के का नशा जला रहा हैं आपके फेफड़ो को

582
hokah is so unhealthy for our health
Loading...

लोगों में आजकल हुक्‍का पीने का शौक कोई नया नहीं है, यह शौक बहुत पुराना हैं और अब यह फिट से चल निकला हैं आजकल छोटे बच्चे भी हुक्का पी रहे हैं जगह-जगह हुक्का पारलर खुल गये हैं और तरह क्र तरह फ्लेवर मौजूद हैं. आज कल हर छोट बडे़ शहरों और मॉल्‍स में हुक्‍का बार या शीशा लाउंज पॉपुलर होते नज़र आ रहे हैं.

स्‍कूल और कॉलेज के बच्‍चे हुक्‍के का एक कश नहीं बल्‍कि हज़ार कश लेते हुए दिखते हैं बहुत से लोग मानते हैं कि हुक्‍का पीना सिगरेट पीने के मुकाबले बिल्‍कुल भी हानिकारक नहीं होता है और इसके कोई नुक्सान नहीं होते हैं लेकिन हुक्के से खींचा गया तंबाकू का धुआं पानी से होता हुआ एक लंबे होज पाइप के जरिए फेफड़ों तक पहुँचता है. पानी के बरतन से होते हुए आने के कारण ही यह एक आम भ्रांति है कि हुक्के का धुआँ हानिकारक नहीं होता लेकिन आखिर सच क्या है क्या यह नुकसानदेह हैं या नहीं आईये जानते हैं.

सच यह है कि हुक्के से निकलने वाला धुआँ सिगरेट या बीड़ी के धुएँ से अधिक घातक होता है अगर आप भी हुक्के के शौक़ीन हैं तो आज हम आपको बतायेंगे इसके बारे में क्या सच हैं और क्या झूट.

सिगरेट की तरह हानि पहुचाता है:

यह सच है की हुक्‍का पीना सिगरेट की ही तरह हानिकारक है क्‍योंकि दोनों उत्‍पाद के अंत में कार्सिनोजन लगा रहता है जो कि एक कैंसर पैदा करने वाला पदार्थ है, इससे बहुत सारे नुक्सान होते हैं.

फलेवर  पहुचाता है नुक्सान:

इसमें किसी भी तरह की सच्‍चाई नहीं है की हुक्‍के का स्‍वाद बदलने के लिये केवल उसमें फ्रूट सीरप मिलाया जाता है जिससे उसके फ्लेवर में बदलाव आ जाता है. इसका यह बिल्‍कुल भी मतलब नहीं है कि हुक्‍के में किसी भी प्रकार का फल मिलाया गया हो. इसलिये यह आशा ना करें कि हुक्‍के को पी कर आपको विटामिन मिलेगा यह बहुत बड़ा मिथक हैं की हुक्के से फायदा होता हैं इससे नुक्सान ही पहुचता है और कुछ नहीं.

Advertisement
Loading...

होता हैं निकोटिन:

हुक्के की तम्बाकू में पाया जाने वाला एक हानिकारक पदार्थ निकोटिन होता है जो हुक्का पीने पर हमारे शरीर में प्रवेश करता हैं, यह हानिकारक पदार्थ निकोटिन हाथ-पैरों की खून की नलियों में धीरे-धीरे कमजोरी वा  सिकुड़न पैदा करना शुरू कर देता है और यह सिगरेट की तरह ही नुकसानदेह हैं और आपको कनसर का शिकार भी बना सकता हैं.
धुआ नहीं होता फ़िल्टर:

हुक्‍के में मौजूद पानी सभी विशैले तत्‍वों को फिल्‍टर कर देता है सच: यह बिल्‍कुल गलत है बल्‍कि धुएं से भरा पानी आपके फेफड़े को बिल्‍कुल सिगरेट की तरह नुकसान पहुंचा सकता है. पानी धुएँ को फिल्टर नहीं करता है बल्कि  तंबाकू के धुएँ में ४००० तरह के जहरीले रसायन होते हैं जो आपको वही नुक्सान पहुचाते हैं जो तम्बाकू पहुचाता है.

लत है हुक्का पीना:

यह गलत धारणा है कि हुक्‍के का कोई आदि नहीं हो सकता है आप बहुत आसानी से इसकी लत हो जाती है. सिगरेट की तरह इसमें भी निकोटीन होता है इसलिये किसी किसी को इसकी लत लग सकती है

हर्बल भी हैं नुकसानदेह:

हर्बल शीशा या हुक्‍का किसी भी तरह से फायदा नहीं पहुंचाता है बल्‍कि यह व्‍यक्‍ति को तार और कैंसर पैदा करने वाले तत्‍वों से भरता है और आपकी जान के साथ खिलवाड़ करता हैं.

फेफड़े को जलाता है हुक्का:

सच्‍चाई तो यह है कि हुक्‍के का धुआं ठंडा होने के बाद भी हानिकारक होता है,  इसमें कैंसर पैदा करने वाले एजेंट भारी मात्रा में होते हैं हांलाकि यह फेफडे़ को जलाता नहीं है पर फिर भी यह रिस्‍की है.

संक्रमण के शिकार :

आप जितनी बार भी हुक्‍के की पाइप को शेयर करेंगे आपको उतनी ही बार संक्रमण, हर्पीस या अन्‍य बीमारियां फैलने का खतरा हो सकता है और इससे व्यक्ति संक्रमित हो जाता हैं.

If you are thinking that hookah is good for your health then is the biggest myth about hookah here we will tell you how bad it is for your health

web-title: hookah destroy your lungs very badly

keywords: hookah, side, effects, harm, unhealthy

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here